की अब जो

की अब जो इस कदर किया तूने नाचार है,
खुदपे क्या, खुदा पे कोई ना अब ऐतबार है।

की अब जो मालुम हुआ तेरे प्यार का बाजार है,
बे-नक़ाब हुआ तेरा पर्दा-इ-असरार है।

की अब जो हर दिन जन-इ-अफ़्कार है,
तुझसे क्या, खुदसे ही अब दिल-इ-बे-ज़ार है।

– कृतिका वशिस्ट

Advertisements

One thought on “की अब जो

Share your thought

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s